जालंधर : लूट का शिकार हुए व्यक्ति की मौत के बाद उसके भाई ने थाना पुलिस पर लगाया धमकिया देने का आरोप , जानिए पूरा मामला…

जालंधर : लूट का शिकार हुए व्यक्ति की मौत के बाद उसके भाई ने थाना पुलिस पर लगाया धमकिया देने का आरोप , जानिए पूरा मामला…

Mbdwebnews:(सुमेश शर्मा) जालंधर- पठानकोट रेलवे ट्रैक पर गांव ब्यास पिंड मे परेशानी के चलते एक व्यक्ति ने ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली।मृतक की पहचान जरनैल सिंह पुत्र मक्खन सिंह निवासी गोल्डन एवेन्यू फेस- 2 जालंधर के रूप में सामने आई है । मृतक के भाई ओंकार सिंह ने जानकारी देते हुए पत्रकारो बताया कि मृतक जरनैल सिंह से बीते कल मोटरसाइकिल सवार 3 अज्ञात युवकों द्वारा करतारपुर रोड पर तीन लाख की नगदी छीन ली थी लूट की वारदात की उसने सूचना पुलिस को दी थी।

सूचना मिलते ही मौके पर थाना करतारपुर और थाना मकसूदा की पुलिस पहुंची थी। लेकिन हद बंदी की जांच के मामला थाना मकसूदा की पुलिस के क्षेत्र में आया।जिसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई थी। मृतक के भाई का कहना है।कि पुलिस तफ्तीश करने की बजाए, थाना मकसूदा में बुलाकर जरनैल सिंह को ही परेशान कर रही थी और उसे धमकियां दे रही थी । जिसके चलते आज सुबह उनके भाई जरनैल सिंह ने अपनी इनोवा गाड़ी में गांव ब्यास पिंड पहुंचा और ट्रैक के पास गाड़ी खड़ी कर ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली । लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी।मौके पर पहुंची जीआरपी पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी।

थाना प्रभारी रमनदीप का कहना है कि लूट की वारदात की जानकारी मिलने पर तफ्तीश शुरू कर दी गई थी।मौके के वारदात की सीसीटीवी फुटेज चेक की जा रही थी। कल रात में जरनैल सिंह अपने वकील के साथ थाने में आया और अपने वकील और रिश्तेदारों के साथ सही सलामत वापिस लौटा था।

करतारपुर के डीएसपी सुरिंदर धोगड़ी का कहना है कि बुधवार को जरनैल सिंह शिकायत लेकर मकसूदां थाने आया था कि उससे तीन लाख रुपये की लूट हुई है।

पुलिस की तरफ से पूरी छानबीन की गई। एक टीम ने रंधावा मसंदा बैंक के सीसीटीवी चेक किया तो पाया कि जरनैल सिंह ने जब राशि निकाली तो कोई संदिग्ध उसके आसपास नहीं था। रास्ते में लगे सीसीटीवी की भी जांच की तो पाया कि कोई बाइक सवार लुटेरे उसका पीछा नहीं कर रहे थे।

रंधावा मसंदा से सीधी पक्की सड़क करतारपुर हाईवे की तरफ आती है लेकिन जरनैल सिंह कच्चे मार्ग से क्यों गया जहां लूट की वारदात की बात जरनैल सिंह कह रहा था। वहां पर कार रुकने या बाइक के तेजी से निकलने का कोई निशान कच्ची मिट्टी की सड़क पर नहीं था। आगे सीआरपीएफ का हेडक्वार्टर है और आस-पास सीसीटीवी लगे हैं लेकिन किसी सीसीटीवी में बाइक सवार लुटेरे आते जाते नहीं दिख रहे हैं।

डीएसपी का कहना है कि जरनैल सिंह ने यह भी कहा था कि लुटेरों ने उसकी टी शर्ट को फाड़ दिया था लेकिन जरनैल सिंह उस टी शर्ट को भी पुलिस के आगे पेश नहीं कर रहा था। जरनैल सिंह से पूछताछ कर सिर्फ जांच की जा रही थी ताकि लुटेरों तक पहुंचा जा सके लेकिन जरनैल सिंह खुद घबरा गया और उसने ट्रेन के आगे छलांग लगाकर जान दे दी।