Punjab News In Hindi : Case registered on family of intoxicant business | कांग्रेसी महिला पार्षद का परिवार 23 साल से चिट्टा, शराब और कछुओं की तस्करी कर रहा

कांग्रेसी महिला पार्षद का परिवार 23 साल से चिट्टा, शराब और कछुओं की तस्करी कर रहा

    • एमसी राधा के पति राजकुमार पर भी दर्ज हुआ तस्करी का पर्चा

    • पार्षद का देवर अवैध शराब और कछुए की तस्करी करता है

टांडा. बुधवार देर शाम आबकारी विभाग द्वारा टांडा के वार्ड-दो में रह रही वार्ड-सात की कांग्रेसी पार्षद राधा रानी के घर रेड की गई थी इस दौरान वहां से अवैध शराब और 11 कछुए मिले थे। रेड के दौरान पार्षद राधा और उसकी ननद भोली मौके से भागने में कामयाब हो गई थी जबकि उसकी सास बचनी को पुलिस ने गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की थी।

मामला दर्ज

सरकारी सूत्रों के अनुसार कांग्रेसी पार्षद राधा रानी का पूरा परिवार पिछले दो दशक से शराब और चिट्टे की तस्करी में लिप्त हैं और परिवार के अलग-अलग सदस्यों पर अलग-अलग थानों में कई मामले दर्ज हैं। पार्षद की सास बचनी तो पुलिस द्वारा घोषित 10 नंबरी (हैबिचुअल तस्कर) है। दूसरी तरफ, आबकारी विभाग की कार्रवाई के बाद पुलिस द्वारा केवल बचनी को नामजद किए जाने का जब राजनीतिक विरोध हुआ तो पुलिस ने शनिवार को पार्षद पति राजकुमार उर्फ राजू के खिलाफ अवैध शराब की तस्करी और वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत शनिवार को मामला दर्ज कर लिया।

हिमाचल से लाते है नशा

उल्लेखनीय है कि बचनी जब पकड़ी गई थी तो उसने पुलिस से कहा था कि  विधायक गिलजियां ने उसे चिट्‌टा नहीं बल्कि शराब खुले आम बेचने को कहा है। इतनी सियासी ताकत कांग्रेस पार्षद की सास-ननद कई बार जा चुकी है जेल, फिर भी बहू को कांग्रेस से दी गई एमसी इलेक्शन लड़ने की टिकट। जानकारी के अनुसार चिट्टे की जो खेप हिमाचल के गांव छनी वेली से आती है इस गांव का कुछ हिस्सा पंजाब में भी पड़ता है। इसी गांव में कांग्रेसी लीडर राधा रानी का देवर महंगा परिवार सहित रहता है, जो टांडा में अपने परिवार को चिट्टे की खेप की सप्लाई पहुंचाता है। अवैध शराब और कछुए की भी तस्करी महंगा करता है। गांव छनी वेली चिट्टा तस्करी का गढ़ माना जाता है। महंगा के ऊपर हिमाचल में भी तस्करी कई मामले दर्ज हैं। सबूत के अभाव में कई बार छूट चुका है।

Source link